वासना की भूख में जवान मौसी की नर्म चूत चोदी

loading...

सभी लंड धारियों को मेरा लंडवत नमस्कार और चूत की मल्लिकाओं की चूत में उंगली करते हुए नमस्कार। antarvasnax.net के माध्यम से आप सभी को अपनी स्टोरी सुना रहा हूँ। मुझे यकीन है की मेरी सेक्सी और कामुक स्टोरी पढकर सभी लड़को के लंड खड़े हो जाएगे और सभी चूतवालियों की गुलाबी चूत अपना रस जरुर छोड़ देगी।

मेरा नाम तेज बहादुर सिंह है। मैं पंजाब का रहने वाला हूँ। मैं 6 फ़ीट 3 इंच का लंबा चौड़ा जवान मर्द हूँ। मेरी उम्र अभी 29 साल की है। मैंने 27 साल की उम्र तक एक भी चूत का दर्शन नहीं कर पाया। लेकिन खुदा कब मेहरबान हो जाए ये किसी को नहीं पता। मेरी सालों की तपस्या और लंड की मालिश कर उसे मोटा तगड़ा करने का इतना बड़ा आनंद मिलेगा ये मेरे को कभी सपने में भी नहीं आया था। मै अक्सर लड़कियों को देखकर अपना लंड खड़ा कर लेता था। लेकिन किसी को हाथ से छूने का कभी मौक़ा ही नहीं मिला। घर आकर मै लंड की मालिश करता रहता था। मेरे लंड को हाथ की मसाज से ही संतुष्ट होना पड़ता था। फिर अपना माल त्याग कर मेरा लंड आसानी से शिथिल अवस्था में चला जाता था।

मेरी चूत को देखने की हवस इतनी बढ़ गयी थी की मैं किसी भी हद तक गुजरने को तैयार था। जब भी मै घर के किसी भी औरत को नहाने के लिए बॉथरूम जाते देखता तो उनकी चूत देखने की हर तरह की कोशिश करता था। लेकिन मेरी किस्मत भी बड़ी कमीनी थी। कभी भी मेरे को दूर से साक्षात चूत के दर्शन नहीं लिखा था। मै देखनें में भी कुछ खाश स्मार्ट नहीं था। शायद इसीलिए लडकियां मेरे से बात करने में कतरा जाती थी। इस बात से मेरे मो बहुत ही ज्यादा दुःख होता था। कभी यही सब सोच सोच कर दिन में कई बार मुठ मार देता था। अचानक मेरी किस्मत ने एक बहुत गजब का मोड़ लिया। मेरी किस्मत खोलने वाली देवी मेरी मौसी आयी हुई थी। अपनी तो आदत तो थी किसी को भी ताड़ने में एक्सपर्ट हो चुका था। मौसी की खूबसूरती को ताड़ने में कोई कसर नहीं छोड़ी। मै मौसी चूत की खूबसूरती की कल्पना मन ही मन करने लगा।

मौसी के गोल गोल गालो और गुलाबी पंखुडियो जैसे होंठो को देखकर मैं उनकी चूत पाने को तङप उठा। वो मेरे घर कुछ दिन रुकने के लिए आई हुई थी। मौसी की उम्र लगभग 37 साल के करीब रही होगी। मेरी मम्मी से वो 13 साल की छोटी थी। मेरी मम्मी की उम्र 50 साल के करीब थी। भाई बहन में सबसे छोटी मेरी मौसी की थी। उनकी खूबसूरती पर काम देव का भी मन फिसल जाए। चिकनी टाँगे देखकर उन्हें उठाकर चोदने का मन करने लगता था। मौसी शाम को हम लोगो के साथ बात की उसके बाद रात का खाना खाकर बिस्तर पर लेटने चली गयी। वो मेरी मम्मी के साथ लेटना चाहती थी। मै भी मम्मी के साथ में ही लेटता था।

loading...

“दीदी मै आपके पास ही लेटूँगी” मौसी ने कहा

“छोटी तेज भी मेरे पास ही हमेशा लेटता है। लेकिन ठीक है तेज को आज कही और शिफ्ट कर देंगे” मम्मी ने कहा

“नहीं मम्मी मै आपके पास ही लेटूँगा” मैंने कहा

मम्मी ने सबको अपने बिस्तर पर लेटने के लिए राजी हो गयी। मौसी बीच में लेटी थी। मैं मौसी के दाएं साइड में लेटा हुआ था। मौसी ने उस दिन मैक्सी पहना हुआ था। रात को जब सब लोग सो गयी तो मैंने पैर से मौसी की मैक्सी को ऊपर उठा दिया। चूकि मौसी गहरी नींद में सो गयी थी। तो उन्हें कुछ पता भी नहीं चल रहा था। मैंने मैक्सी को उनकी जांघो तक ही उठा सका। लेकिन उस दिन मेरे को उनकी टांगो को ही प्यार करने का मौका मिल गया। मौसी की चूत को देखने की बहुत ही बेकरारी थी। टांगों को देख कर मेरा मन मचल गया। हर रात को मौसी मैक्सी पहन कर सोती थी। मौसी शादी शुदा थी।

लेकिन उनके हसबैंड यानि की मेरे मौसा के साथ नहीं पट रही थी। दोनों लोगो में अक्सर झगड़ा हो जाया करता था। झगड़ा होने की वजह से मौसी मेरे घर आयी हुई थी। मौसा नशा करके मौसी को मारते थे। उनकी चिकनी टांगो पर कई सारे जगह काले काले दाग थे। जो की चोट के नजर आ रहे थे। ये सब मैंने उस दिन जब मैक्सी उठाया था तभी देखा था। इतनी खूबसूरत बीबी को भी भला कैसे प्यार करने के बजाय मार देता है। मैं तो सोच सोच के परेशान हो रहा था। मै भी अपने को मौसी की सेवा में लगाने की सोच रहा था। मै मौसी के ऊपर एक बार चढ़ कर अपनी हवस को शांत करना चाहता था। मौसी को घर आते ही मम्मी और पापा कही घूमने जाने की बात कर रहे थे।

मै मौसी को उसी बीच चोद कर अपनी चुदाई की गर्मी को शांत करने का मजा लेना चाहता था। मम्मी ने मौसी बार की और दूसरे ही दिन पापा के साथ कही घूमने चली गयी। दो तीन दिन बाद ही वो आने वाले थे। रात को मौसी ने अपने कपडे उतार कसर तौलिया लपेटे हुए बॉथरूम में जा रही थी। तौलिया छोटी थी तो मौसी की जांघ बहुत ही साफ़ साफ़ दिख रही थी। मौसी ने नहा कर अपना कपड़ा पहन कर बाहर आई। मौसी की भीगे बदन से उनकी ब्रा साफ़ साफ़ दिख रही थी। उस दिन मौसी ने सफ़ेद रंग की ब्रा पहनी थी। सफ़ेद रंग की समीज में दिख रही थी। शाम को हमने खाना खाया और लेटने के लिए चले गए। मौसी भी आकर मम्मी के बिस्तर पर ही लेटी। वो रात को मम्मी की काली काली मैक्सी को पहन कर सोने को आ गयी। मम्मी के ऊपर वो मैक्सी तनिक सा भी अच्छी लगती थी। लेकिन मौसी के ऊपर वो एक दम लाजबाब लग रही थी।

“मैसी इस मैक्सी में तो तुम बेहद खूबसूरत लग रही हो” मैंने कहा

“हाँ लेकिंन क्या फायदा ऐसे खूबसूरती का! जिसकी कोई कद्र ही नहीं है” उन्होंने बहुत ही दुःख भरे स्वर में कहा

“सच में तुम बहुत ही ज्यादा हॉट लगती हो! खुदा कसम ऐसी बीबी मेरी होती तो…” मै इतना कहकर रुक गया

मै फ्लो फ्लो में कुछ ज्यादा ही बोलने लगा।

“आगे बोलो” उन्होंने फ़ोर्स करते हुए कहा

“कुछ नहीं मै तो ऐसे ही कह रहा था” मैंने बहाना मारते हुए कहा

“तुम मेरे साथ कुछ करना चाहते हो! मेरे को ऐसा फील हो रहा है” मौसी ने कहा

“नहीं मौसी तुम्हारे साथ क्या करूंगा मै” मैंने कहा

उसके बाद मौसी ने गुड नाईट बोला और अपनी चादर तान कर सोने लगी। वो कुछ गई देर में खर्राटे मार कर सोने लगी। मौसी को गर्म लगी और वो अपना चादर फेंकते हुए मेरे करीब में आ गयी। मै भला मौक़ा कहा गवाने वाला था। उन्हें जैसे ही पलटते हुए देखा। वैसे ही उनके करीब चला गया। वो अपना पैर रखकर मेरे ऊपर चढ़ी हुई सो रही थी। मै उनको सहलाते हुए अपने बाहों में भर लिया। उनकी मैक्सी को पकड़कर धीरे धीरे ऊपर उठा दिया। उनकी कमर तक मैक्सी को उठाकर पैंटी तक के दर्शन कर लिया। उनके गुलाबी होंठो पर अपने होंठो को सटाकर धीरे से किस कर लिया। मौसी को चूमने का बहुत गहरा असर मेरे ऊपर पड़ा।

मैं क्या कर रहा हूँ मेरे कक खुद ही नहीं पता चल रहा था। उनकी पैंटी को मैं अपने हाथों से पकड कर खीच रहा था। गांड पर हाथ लगाकर छेद में ऊँगली घुसा दी। मौसी चौंक गयी। वो अपने को मेरे से दूर करते हुए देखने लगी। मै अपने जोश को रोक नहीं पा रहा था। मै फिर से मौसी को चिपक कर उनसे प्यार कर रहा था।

“क्या कर रहे थे तुम?? दीदी से सब बता दूँगी!” उन्होंने धमकाते हुए कहा

“क्या किया है मैने! जो तुम मम्मी से बता दोगी!” मैंने कहा

“जब तुम्हारी मैक्सी ऊपर उठी थी तो मैंने देखा और पता नहीं मेरे को किसी का ऐसा रूप देख कर क्या हो जाता है” मैंने कहा

“और मुझे भी कोई जब ऐसे छूता है तो अंदर आग सी लग जाती है” मौसी ने कहा

“ठीक है तो तुम मेरे को मौका दो मै कुछ देर में सब ठीक कर दूंगा” मैंने अपना हाथ मौसी के ऊपर रख कर कहा

उनका भी मूड बना हुआ था। वो भी गर्म थी। काफी दिनों से मौसा का लंड नहीं खायी हुई थी। मैंने मौसी की चूत पर अपना हाथ लगाया तो मौसी ने अपना हाथ मेरे हाथ पर रख कर चूत में दबा लिया। मौसी के सिग्नल को पाते ही मैं शुरू हो गया। उनकी गुलाबी होंठो को एक बार फिर से चूमने लगा। नरम नरम होंठों को चूसने में बहुत मजा आ रहा था। वो भी मेरे साथ अपनी हवस की प्यास को मिटा रही थी। उनके बालो को खीचते हुए उन्हें प्यार कर रहा था। मै उनके होंठो का रस बहुत ही मजे ले ले कर पी रहा था। पूरा रस निचोड़ने के बाद मैंने उनकी चूंचियो को पीने के लिए उन्हें नंगा करने लगा। उनकी मैक्सी को निकाल कर उन्हें ब्रा और पैंटी में कर दिया। काले रंग की ब्रा में बहुत ही रोपचिक माल लग रही थी। उसकी चूंचियो को ब्रा में ही मसलने लगा।

Ghar ki chudai

ब्रा को निकालते ही दोनों ही चमकते हुए दूध की तरह गोरे मम्मे को देख कर मैं बहुत ही ज्यादा उत्तेजित हो गया। उनके मम्मो को हाथ लगाते ही मेरे मुह में पानी आ गया। मक्खन की तरह मुलायम चूचे को अपने मुह से लगा लिया। भूरे निप्पल को अपने मुह से दबा दबा कर काटते हुए चूस रहा था। वो “..अहहह्ह्ह्हह स्सीईईईइ….अअअअअ….आहा …हा हा हा” की आवाज के साथ अपने दूध को पिलाकर मजा ले रही थी। दांतो से काट काट कर उन्हें गर्म कर दिया।

“रहने दो अब मेरे चूचो को काट काट कर ख़त्म न कर दो” मौसी ने कहा

“मौसी पीने दो आज पहली बार मेरे को चूचे को चूसने का मौका मिला है! आज तो मै काट काट कर पिऊंगा” मैंने कहा

जोर जोर से लगभग 10 मिनट तक कर खूब दूध को दबा कर पिया। मौसी ने अपने दूध को मेरे से दूर करते हुए कहने लगी

Masi ki sex kahani

“तेज अब तू भी अपने कपङे उतार दे! जरा मै भी तो तुम्हारे लंड को देखूँ” मौसी ने कहा

मौसी ने मेरा पैजामा निकाल दिया। उसके बाद अंडरवियर को निकाल कर मेरे को अपना लंड दिखाने लगा। मैं उसके लंड को हाथो से मुठियाते हुए चूसने लगी।

“वाह मौसी तुम कितना मस्त लंड चूसती हो! जी करता है रात भर अपना लंड तुम्हे चुसाता रहूं” मैंने कहा

मौसी सुनते ही और भी ज्यादा तेजी से मेरा लंड मुठियाते हुए चूसने लगी। उनके गले तक अपना लंड डाल कर खूब जोर जोर से अंदर बाहर कर रहा था। आधा से ज्यादा लंड उनकी मुह में घुस रहा था। पूरा लंड थूक से भीगा हुआ था। कुछ देर बाद मै झड़ने की स्थिति में पहुच गया। मैंने जल्दी से अपना लंड उनके मुह से निकाल कर दूर किया। उनकी पैंटी को निकाल कर टांगो को फैला दिया। फूलों की तरह खिली हुई चूत को देखकर मेरा रोम रोम खिल उठा। मेरे को ये नहीं पता था कि चूत भी चाटी जाती है। मै सिर्फ हाथ लगाकर उनकी चूत को मसल रहा था।

“सिर्फ हाथ लगाकर चूत ही गर्म करेगा! या चाट कर उसकी गर्मी का भी मजा लेगा” मौसी ने कहा

मै चौंक गया कि भला चूत को कैसे कोई चाटता है। लेकिन बाद में ख्याल आया की मेरा लंड भी तो मौसी ने अभी अभी चूसा है। मैंने भी उनकी चूत पर अपनी जीभ का ऊपरी हिस्सा लगाकर धीरे धीरे चूत चटाई शुरू कर दी। मेरे को चूत चाटने में बहुत मजा आने लगा। मैं उनकी चूत जोर जोर से चाटने लगा। वो “..अहहह्ह्ह्हह स्सीईईईइ….अअअअअ….आहा …हा हा हा” की सिसकारियों के साथ अपनी चूत चटा रही थी। अपनी चूत में मेरे को दबा दबा कर अपनी गर्माहट का एहसास करा रही थी।

Pariwarik sex story

“चाटो! और जोर से! काट डाल मेरी बुर को! दाने को काट डाल!”मौसी कह रही थी

उनकी इस तरह की आवाज को सुनकर मैं और भी ज्यादा मजे ले ले कर काटते हुए चूसने लगता था। कुछ देर तक चूसने के बाद मौसी की टांगों को अच्छे से खोलकर अपना 7 इंच का लंड उनकी चूत के द्वार पर रख दिया। ऊपर नीचे करके रगड़ते हुए मैसी को बहुत ही गर्म कर दिया

“तेज बाबू! अब मुझसे रहा नहीं जाता! अपना डंडा मेरी चूत में घुसा दो! फाड़ दो मेरी नर्म चूत को!” मौसी कह रही थी

कंट्रोल तो मेरे से भी नहीं हो रहा था। लेकिन फिर भी अपना लंड कुछ देर तक उनकी चूत पर रगड़ा। कुछ देर बाद मौसी की तमन्ना पूरी कर दी। उनकी चूत में अपना मोटा लंड घुसा दिया। मेरे को पता ही नहीं चला की कब मेरा लंड उनकी चूत ने खा लिए। लंड को खाते ही मौसी जोर से ओह्ह माँ….ओह्ह माँ…उ उ उ उ……अअअअअ आआआआ….” की चीख निकालने लगी।

“क्या बात है मौसी निकल गयी ना तुम्हारी चीख!” मैंने कहा

“तुम्हारा इतना मोटा लंड कोई भी अपनी चूत में बिना चिल्लाये सहन नहीं कर सकता!” मौसी ने सुसुकते हुए कहा

मै उनकी चुदाई करने के लिए अपना पूरा लंड अंदर घुसा दिया। जड़ तक लंड पेलकर उनकी खूब जोर जोर से चुदाई करनी शुरू कर दी। वो भी अपनी कमर को उठा उठा कर चुदा रही थी। उनकी चूत को खाकर मजा आ गया। नरम नरम चूत में लंड पेलने में बहुत मजा आ रहा था। उनकी चूत का सत्यानाश हो गया। पहली बार की चूत की लगी भूख ही बहुत अजीब होती है। मेरे को पता ही नहीं चल रहा था कब मेरा लंड उनकी चूत के अंदर गया और कब बाहर आया। उनकी चूत का रसपान मेरा लंड बाखूबी से कर रहा था। वो भी कुछ कम थोड़ी ना थी। पूरा लंड खाने के बाद भी चिल्ला रही थी।

“तेज और गहराई तक चोदो! फाड डालो मेरी चूत! बना डालो इसका भरता!”

ऐसे शब्दो का प्रयोग करके मेरे को और भी ज्यादा जोश दिला रही थी। उनकी आवाज सुनते ही मेरी स्पीड बढ़ जाती। उसके बाद उनकी चीख निकल जाती थी। कमर उछाल उछाल कर लगभग 15 मिनट से भी ज्यादा एक ही पोजीशन में उन्हें चोदा। वो भी सिर्फ “हूँउउउ हूँउउउ हूँउउउ ….ऊँ—ऊँ…ऊँ सी सी सी सी… हा हा हा.. ओ हो हो….” की मधुर जोशीली आवाज निकाल रही थी। मै कुछ देर बाद थक गया। मौसी की गर्मी और भी ज्यादा बढ़ गयी थी। मै बिस्तर पर लेट गया। उन्होंने मेरे लंड की ख़ाल को दो तीन बार ऊपर नीचे की। उसके बाद उस पर थूक लगाकर अपनी चूत सटा दी। पूरा लंड अपनी चूत में घुसाकर ऊपर नीचे होकर चुदने लगी। वो खुद ही ऊपर नीचे होके चुदाई का भरपूर मजा ले रही थी। 10 मिनट तक वो धीरे धीरे उछलती रही।

Desi kahani

उसके बाद अचानक से वो जोर जोर से कूदते हुए चुदने लगी। उनकी “आऊ…..आऊ….हमममम अहह्ह्ह्हह…सी सी सी सी..हा हा हा..”, की चीख से पूरा कमरा भरा हुआ था। वो भी झड़ने वाली थी। मैं भी उनकी चूत की जोर की रगड़ लगते ही झड़ने वाला हो गया। वो अपना माल मेरे साथ ही निकाल दी। मैं उनकी चूत में ही स्खलित हो गया। उसके बाद मौसी ने अपनी चूत को मेरे लंड से जुदा करके मेरे बगल में लेट गयी। उनकी चूत से माल नीचे बिस्तर पर गिर रहा था। उन्होंने कुछ देर बाद सब साफ़ किया। उसके बाद नंगी ही मेरे साथ लेट गयी। रात को उनकी गांड चुदाई भी की। उसके बाद कई बार चुदाई का आनंद मौसी को देकर उन्हें अपनी बीबी की तरह प्यार देने लगा। जब भी मौसी मेरे घर आती है तो उनकी चुदाई का मजा ले लेता हूँ।

आपको स्टोरी कैसी लगी मेरे को जरुर बताना और सभी फ्रेंड्स नई नई स्टोरीज के लिए antarvasnax.net पढ़ते रहना। आप स्टोरी को शेयर भी करना।

2 comments

  1. only girls Bhabhi Aunty housewife call kre
    hello girls and housewife Bhabhi Aunty
    mai sexy boy mai mai chudai bhut acha krta hu
    call sex real sex wathapps sex home sex
    mere land 8in Ka h my no.h 8574712500

  2. लड़की या हाउसवाईफ जो sexकरवाना चाहती होता वोही करें कोल केवल जयपुर या अजमेर की लड़ीज 9549248921पर कोल करें केवल राजस्थान की लड़ीज करें कोल कोई

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *