दीपक तुम सच में कितना अच्छा चोदते हो…

Free Hot antrarvasna Hindi sex story, Chudai, Aynty Chudai, bhabhi chudaui adult sex story, Hindi sex kahani, sex story in hindi

मेरा नाम दीपक है और मेरि उम्र 20 है में बिलासपुर में रहता हूँ. हमारि जॉइंट फेमिली है और बड़ा घर है. मेरि बड़ी माँ की उम्र 29 है वो बहुत ही खूबसूरत हुस्न की मलिका है उनको देखते ही मेरा मन सेक्स करने का हो जाता है… बात आज से 2 साल पहले की है में हमेशा उन्हे नंगा देखा करता था जब वो स्नान करती थी।

क्या बताऊँ फ्रेंड्स उनके बारे में उनके वो बड़े बड़े बोबे वो मस्त मोटी गांड देख के में आज भी मस्त हो जाता हूँ, हर बार की तरह सुबह जब वो स्नान करने गयी तो में उनके पीछे पीछे बाथरूम तक चला गया और उनके दरवाजा बंद करने के कुछ देर बाद दरवाजे की जाली से अंदर का नज़ारा लेने लगा वो अपने कपड़े खोल चुकी थी और नंगी खड़ी थी उन्होने शावर ऑन किया और जिस्म पर साबुन लगाने लगी. में उनके हुस्न के मज़े ले रहा था अचानक उन्होने मूझे देख लिया और आवाज़ लगाने लगी कौन है ?

में कुछ नही बोला और वहाँ से चला गया. फीर लंच के टाइम हमारि मूलाकात हुई वो शक़ भरि नज़रो से मेरि तरफ देख रही थी में समझ गया इन्हे मूझ पर शक़ हो गया है साथ में डर भी लग रहा था कही यह किसी को कह ना दे. 2 दिन बाद घर वाले सभी किसी काम से बाहर गये थे और अगले 2 दिन हम घर में अकेले थे. उस दिन बड़ी माँ ने मूझे अपने कमरे में बुलाया में डरते डरते उनके रूम में गया उन्होने मस्त सेक्सी ड्रेस पहनी हुई थी।

उन्होने मूझे अपने पास बैठाया और बात करने लगी पहले तो इधर उधर की बाते कर रहे थी पढ़ाई कैसी चल रही है…. अचानक उन्होने पूछा उस दिन बाथरूम के बाहर तुम्ही थे ना में डर गया और नज़रे चुराने लगा उन्होने फीर पूछा मेंने कहा किस दिन बड़ी माँ उन्होने कहा ज़्यादा बनो मत मूझे सब पता है उस दिन तुम ही थे.. मेने कहा नही बड़ी माँ मूझे नही पता किस दिन की बात कर रही है आप….

तब वो गुस्से में बोली सीधे सीधे बताओ वरना में तुम्हारि मम्मी को बता दूँगी… मेने डर के मारे उनके पाव पकड़ लिए और कहा ऐसी ग़लती कभी नही करूँगा मूझे इस बार माफ़ कर दीजिए… घर में किसी को मत बताना वरना मेरि बहुत पिटाई होगी… वो बोली ठीक है लेकिन तुम्हे में जो पूंछू सच सच बताना होगा…

मेने कहा ठीक है फीर उन्होने पूछा यह सब कब से चल रहा था… मेने कहा काफ़ी टाइम से बड़ी माँ… फीर उन्होने कहा में तेरि बड़ी माँ हूँ तू मेरे बारे में यह सब कैसै सोच सकता है में थोड़ी देर चुप रहा तो वो बोली चुप क्यू है जवाब दे… मेने उनसे कहा में क्या करू बड़ी माँ आप हो ही इतनी खूबसूरत में कंट्रोल ही नही कर पाता जब भी आपको देखता हूँ तो कुछ कुछ होता है……

लगातार २ घंटे तक किसी बी सेक्सी लड़की को कैसे चोदे देखो यह Apps से Free (Download)

वो बोली क्या कुछ कुछ होता है.. बोल.. मेने कहा वो बड़ी माँ….. उन्होने कहा अच्छा कुछ ज़्यादा ही कुछ कुछ होता है… में समझ गया आज चान्स लग सकता है… फीर उन्होने मूझसे पूछा तेरि कोई गर्लफ्रेंड है… मेने कहा नही है वो बोली क्यू मेने कहा आप जैसी कोई मिली ही नही… वो बोली चल हट बदमाश..

फीर मेने उनसे हिम्मत करके कहा बड़ी माँ में आपको नग्न देखना चाहता हूँ… वो बोली क्या.. मेने कहा हां बड़ी माँ वो नही मानी लेकिन मेरे बार बार कहने पर वो मान गयी और कहा दूर से देखेगा कुछ करेगा तो नही… मेने कहा हां बड़ी माँ दूर से ही देखूँगा..

यह कहानी भी पढ़िए ==>  Seniors Ke Sath College Tour

फीर उन्होने एक एक करके सारे कपड़े उतार दिए अब वो एकदम नंगी मेरे सामने खड़ी थी वो थोड़ा शरमा रही थी इसीलिए चुत को हाथो से छुपा रही थी क्या मस्त माल था एक दम गोरा चिकना उन्होने चुत के बाल अभी काटे थे उनको इतना करिब से नंगा पहली बार देखा था. इतनी जवान खूबसूरत औरत को देख मेरा लंड हिचकोले मारने लगा और मेरा पेन्ट तंबू की तरह तन गया। वो चोरि चोरि मेरे लंड को निहार रही थी।

मेने कहा बड़ी माँ आपके गुब्बारे तो बहुत अच्छे है एक दम तरबूज की तरह वो शरमा गयी मेने कहा क्या में इन्हे छु कर देख लू… उन्होने मना कर दिया नही… मेने कहा बड़ी माँ सिर्फ़ हाथ लगा कर देखूंगा… मेने कभी इनको नही छुआ… फीर वो मान गयी और में उनके गुब्बारो को हाथ में लेकर सहलाने लगा. मेने स्माइल की.. मेने सोचा अब चान्स लेना चाइये और मेने ज़ोर से उनके बोबे को दबा दिया उन्होने मूझे ज़ोर दार थप्पड़ रसीद कर दिया और कहा मेने मना किया था ना तुझे यह सब करने के लिए…

मेने सॉरि कहा और फीर से उनके बोबे पकड़ लिए लेकिन अब उन्होने मूझे दूर कर दिया और कपड़े पहनने लगी. लेकिन में कहा मानने वाला था मेने झट से उनको बेड पर धक्का दिया और एकदम नंगा कर दिया।
वो मूझे हटने को कह रही थी लेकिन में अपने काम में लगा था मेने अपने लिप्स उनके लिप्स पर रख लिए और उन्हे कस के पकड़ लिया और उन्हे चूमना स्टार्ट कर दिया वो अब भी मूझसे छूटने की कोशिश कर रही थी लेकिन सब बेकार था। में उन्हे कंटिन्यू किस कर रहा था और एक हाथ से उनके बोबे को मसल रहा था अब वो धीरे धीरे हो रही थी साथ में गर्म भी अब उन्होने दोनो हाथ मेरे उपर रख दिए और अपनी और खींचने लगी साथ ही किस में साथ दे रही थी. हम दोनो लिप किस में मशगूल थे. उनके नरम नरम गुलाब की पंखुरियो जैसै होंठो को चूसने में जो मज़ा आ रहा था वो तो किसी शराब की बॉतल में भी नही आता।

इसके बाद उन्होने अपने हाथो से मूझे नंगा किया मेरा 8 इंच लंबा मोटा ताज़ा लंड देख कर वो हैरान रह गयी कहने लगी. दीपक यह क्या है इतना बड़ा में तो मर ही जाउंगी कैसै जाएगा यह इतना बड़ा मेरे अंदर में तो झेल ही नही पाउंगी… मेने कहा डरो मत बड़ी माँ सब हो जाएगा आराम से यह अंदर चला जाएगा और आपको पता भी नही चलेगा…

मेने कहा इसे मूहं में लेकर चूसो वो उसे मूहं में लेकर चूसने लगी. फ्रेंड्स उन्होने मेरा लंड चाट चाट के लाल कर दिया कभी वो मेरे बॉल्स से खेलती तो कभी लंड से. फीर मेने उन्हे बिस्तर पर लिटा दिया और उनके पूरे जिस्म को अपनी ज़ुबान से चाटा वो पूरि तरह मदहोश हो गयी थी उन्होने मेरा सिर अपनी चुत में घुसा दिया और चाटने को कहा. मेने अपनी जीभ बड़ी माँ की चुत में उतार दी और ज़ोर ज़ोर से हिलाने लगा वो सिसकारिया भर रही थी ओह दीपक !

इसे और ज़ोर से चाटो आ… याया.. कम ऑन दीपक पूरे कमरे में आ…या..या.. की आवाज़े हो रही थी. मेने अचानक उनकी चुत में अपनी 2 अँगुलिया घुसा दी तो वो चमक उठी यह क्या कर हो मूझे दर्द होता है…

उनकी चुत बहुत टाइट थी एक दम मस्त कुवारि चुत की तरह फीर में आराम से करने लगा वो पागलो की तरह हाथ पैर मार रही थी। उन्होने ज़ोर से मेरा सिर अपनी चुत में घुसा दिया और एक झटके के साथ झड़ गयी में उनका सारा अमृत रस पी गया किसी औरत का रस इतना मज़ेदार होता है मूझे उस दिन पता चला।

यह कहानी भी पढ़िए ==>  अपने दामाद से चुदकर ही मुझको पुत्र रत्न [लड़का] मिला

वो कह रही थी अब मूझे मत तड़पाओ मेरे राजा यह चुत अपने मालिक के लिए तड़प रही है इसे अपना लंड डाल कर कृतार्थ करो …

मेने अपना लंड उनकी चुत के मूहं पर रखा और हिलाने लगा तो वो गुस्सा हो गयी और कहने लगी कुत्ते हरामजादे अंदर डालने के लिए क्या तुझे बुलावा भेजू उन्होने लंड पकड़ के अंदर डालना स्टार्ट कर दिया लेकिन उनकी चुत कसी हुई थी तो मेने तोड़ा ज़ोर लगाया तो वो तड़प उठी और लंड निकाल दिया बोली मूझे नही चुदवाना…

मेने उन्हे कहा डरो मत कुछ नही होगा आपकी चुत टाइट है इसलिए तोड़ा दर्द हो रहा है में आराम से डालूँगा मूझे करने दीजिए… मेरे मनाने पर वो मान गयी और बेड पर लेट गयी मेने इस बार अपनी पकड़ मज़बूत बनाई और लंड को चुत के मूहं पर रखा और एक जोरदार झटका मारा जिस से आधा लंड अंदर चला गया। वो चीखना चाहती थी लेकिन मेने अपने होंठ उनके होंठो से लगा दिए और चूमने लगा. उनके आँख से आँसू आ रहे थे.

मेने एक और झटका मारा तो 6 इंच अंदर जा चुका था वो अब बुरि तरह तड़प उठी थी वो ज़ोर ज़ोर से हाथ पाव चला रही थी. इस बार मेने परवाह ना करते हुए एक और कस के धक्का मारा इस बार पूरा लंड अंदर चला गया में कुछ देर ऐसे ही रुक गया और होंठो को चूमने लगा में एक हाथ से उनके बोबे को भी मसल रहा था. 15 मिनट बाद बड़ी माँ ने हरक़त की वो अपनी गांड को हिला रही थी. मेने भी अब धीरे धीरे धक्के देना स्टार्ट कर दिए।

वो बड़े मज़े से गांड उछाल रही थी ताकी लंड अच्छे से चुदाई करे और पूरा अंदर जाए थोड़ी देर चोदने के बाद मेने उन्हे कुत्तिया बना दिया और खुद उनके पीछे आ गया इस पोज़िशन में हमने चुदाई स्टार्ट कर दी वो बड़े मज़े लेकर चुदवा रही थी और मूहं से ज़ोर ज़ोर से आवाज़ कर रही थी.

अहहहह… ओह.. आ… दीपक फाड़ दो मेरि चुत को मसल डालो इसे बहुत खुजली होती है इसमे मिटा दो इसकी सारि खुज़ली आज़ कई दिनों से प्यासी थी… इस लंड के लिए तुम्हारे बड़े पापा तो कुछ भी नही करते अपना पानी निकाल कर सो जाते है.. में तो सारि रात तड़पती रहती हूँ… चोदो और चोदो आ..हहः ऊहह.. ह.. ह.. ह.. बहुत मज़ा आ रहा है दीपक तुम सच में कितना अच्छा चोदते हो…

30 मिनट की चुदाई के बाद वो झड़ने वाली थी। मेने उसे फीर से लिटा दिया और सारा रस पी गया लेकिन में अभी भी नही झरा था इस बार मेने उन्हे अपने उपर बैठा लिया और लंड घुसा दिया वो बड़े मज़े से उछल उछल के अपने अंदर ले रही थी. में चुदाई के साथ साथ उनके मोटे मोटे बोबों के भी मज़े ले रहा था.

उनकी चुत के रस की तरह वो भी बड़े रसीले थे वो मदहोश होकर चुदवा रही थी. हम दोनो चुदाई का मजा ले रहे थे. 20 मिनट चली चुदाई से हम दोनो झड़ने वाले थे.

मेने पूछा में आने वाला हूँ.. कहा निकालूं माल… वो बोली अंदर ही मेने टॅबलेट ले रखी है… फीर हम दोनो एक साथ फ्रि हो गये सारि रात हम ऐसे ही पड़े रहे एक दूसरे की बाहो में।

तो फ्रेंड्स यह थी मेरि ज़िंदगी की सबसे हसीन रात जो मेने मेरि बड़ी माँ के साथ बिताई उनकी जवानी के मज़े लेते हुए।

धन्यवाद .
Free Hot antrarvasna Hindi sex story, Chudai, Aynty Chudai, bhabhi chudaui adult sex story, Hindi sex kahani, sex story in hindi

5 Comments
  1. Satish
    | Reply
  2. s Malik
    | Reply
  3. loy
    | Reply
  4. Nillu dada
    | Reply

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *