सरकारी जॉब और सरकारी नौकरी वाली लड़की

loading...

हाय दोस्तों कैसे हैं आप सब ? मैं आशा करता हूँ कि आप सभी अच्छे होंगे | मेरा नाम जगदीश है और बिलासपुर का रहने वाला हूँ | मेरी उम्र 26 साल है और मैं अभी सरकारी नौकरी करता हूँ रेलवे में | मैं दिखने में सांवला हूँ और मेरी हाईट 5 फुट 10 इंच है और मेरा बदन स्लिम है लेकिन मेरा लौड़ा बड़ा और मोटा है | दोस्तों मैं इस साईट का बहुत बड़ा फैन हूँ और इस साईट का रोजाना पाठक भी हूँ | मुझे इस साईट पर कहानियां पढ़ना बहुत ही अच्छा लगता है और मैं हर दिन एक कहानी जरुर पढता हूँ | दोस्तों आज जो मैं आप लोगो के सामने अपनी कहानी लिखने जा रहा हूँ ये मेरी पहली कहानी है और मेरे जीवन की सच्ची घटना है | मैं आशा करता हूँ कि आप लोगो को मेरी कहानी जरुर पसंद आएगी | अब मैं आप लोगो का ज्यादा समय नहीं लूँगा और अपनी कहानी शुरू करता हूँ |

ये घटना कुछ महीने पहले की है | मेरे घर में मेरे मम्मी पापा, छोटा भाई रहते हैं | पहले दादा जी, चाचा लोग के साथ रहती थे लेकिन अब हमारे साथ रहते हैं | मेरे पापा भी रेलवे में ही जॉब करते हैं और मेरे छोटे भाई का भी ग्रेजुएशन हो चुका है | मम्मी गृहणी है और दादा जी पेंशनर हैं | कॉलेज की पढाई खत्म होने के बाद मैंने अपना पूरा फोकस सिर्फ सरकारी नौकरी में ही समर्पित कर दिया | ऐसा नहीं है कि प्राइवेट जॉब खराब होती है लेकिन प्राइवेट जॉब में काम ज्यादा और पगार कम होती है | कभी कभी तो एम्प्लोयी को निकाल भी दिया जाता है काम पसंद ना आने पर | बस यही सोच कर मैं सरकारी नौकरी की तैयारी में लगा हुआ था और मैं हर सरकारी नौकरी के लिए अप्लाई करता था चाहे वो पियून की है किसी बड़े लेवल के एग्जाम हो | मैं पीछे नहीं हटता था | मुझे काई बार निराशा हाँथ लगी क्यूंकि मैं जरनल में आता हूँ | पर फिर भी मैं हिम्मत नहीं हारा और बेतोड़ मेहनत किया और फिर एक दिन मैंने रेलवे का एग्जाम क्लियर कर लिया | मेरे घरवाले बहुत खुश हुए थे उस समय और उनकी आँखों में ख़ुशी के आंसू आ गए थे |

मेरे पापा ने तो पूरे मोहल्ले में मिठाई बाँट दिए थे और मैंने अपने दोस्तों को पार्टी भी दिया था इस चीज़ की ख़ुशी में | पर मेरी पोस्टिंग भोपाल में हुई थी तो मुझे वहीँ रेलवे के क्वार्टर में रहना पड़ रहा था | तभी मेरी मुलाकात एक लड़की से हुई जिसका नाम संजना है और वो भी रेलवे में जॉब करती है | उसकी उम्र मुझसे एक साल कम है लेकिन वो दिखने में बहुत सुन्दर दिखती है और उसका फिगर तो एक दम क़यामत है | उसके दूध और उसके चूतड बहुत ही मस्त हैं और उसके गुलाबी होंठ किसी गुलाब के पंखुरी जैसे लगते हैं | पहले हमारी बात नहीं होती थी और वो मेरे ठीक बाजु वाले रूम में रहती थी | एक दिन उसके कमरे में मकड़े घुस आये थे बहुत सारे तो उसने मेरी मदद मांगी और मैंने उसके रूम में जा कर सारे मकड़ो को मार दिया | फिर हम दोनों की बात शुरू हो गई बात होते होते हम दोनों बहुत अच्छे दोस्त बन गए | कुछ समय बस दोस्ती यारी में बीत रहा था कि उसने एक दिन मुझसे अपने प्यार का इजहार कर दिया और फिर हम दोनों रिलेशन में आ गए | उसके बाद तो जैसे पूरा समां गुलाबी गुलाबी हो गया था और फिर एक दिन जब वो मेरे रूम आई तब मैंने उसका हाँथ पकड़ा तब उसकी आँखों में मस्ती छाने लगी | फिर मैंने उसके हाँथ को खींच कर उसे अपनी बांहों में ले लिया और उसके बदन को सहलाने लगा तो वो भी मेरी बांहों में सिमट कर मेरे बदन को सहला रही थी |

उसके बाद मैंने उसके होंठ से अपने होंठ लगा दिया और उसके होंठ के रस को चूसने लगा तो वो भी मेरा साथ देते हुए मेरे होंठ को चूसने लगी | मैं उसके होंठ को चूसते हुए उसके चूतड को भी दबा कर सहला रहा था और वो मेरे होंठ को चूसते हुए मेरे सिर के बाल को सहला रही थी | हम दोनों ने कुछ मिनट तक किस किया | उसके बाद मैंने अपनी टी-शर्ट को उतार दिया और बनियान भी और वो मेरे सीने के बाल को सहलाने लगी | फिर मैंने अपने जीन्स को भी उतार दिया और सिर्फ अंडरवियर में खड़ा हो गया | फिर उसने भी अपने टॉप को उतार दिया तो मैं उसके ब्रा के उपर से ही उसके दोनों दूध को अपने दोनों हाँथ से मसलने लगा तो उसके मुंह से आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह की आवाज़ निकलने लगी | फिर मैंने अपने हाँथ उसके पीछे कर के उसके ब्रा के हुक को खोल दिया और ब्रा को उतार के साइड में रख दिया और उसके दोनों दूध को अपने मुंह में ले कर बारी बारी से चूसने लगा और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए सिस्कारियां ले रही थी |

loading...

मैं उसके दोनों दूध को बारी बारी से जोर जोर से मसल कर चूस रहा था और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मेरे सिर पर हाँथ फेर रही थी | फिर मैंने उसके जीन्स को उतार दिया और पेंटी के ऊपर से ही उसकी चूत को सहलाने लगा और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए अपनी टाँगे फ़ैलाने लगी | फिर मैंने उसकी पेंटी को भी उतार दिया और उसे पूरी नंगी कर दिया | फिर उसके दोनों पैरो को फैला कर उसकी चूत को चाटने लगा और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए सिस्कारियां लेने लगी | मैं उसकी चूत को चाटते हुए उसके चूत के दाने को भी मजे से चूस रहा था और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए अपने पैरो से मेरे मुंह को दबा रही थी | फिर वो उठी और मेरी अंडरवियर को उतार कर मुझे भी नंगा कर दिया | उसके बाद उसने मेरे लंड को अपने हाँथ में ले कर किस किया और फिर अपनी जीभ मेरे लंड पर फेरने लगी तो मेरे मुंह से भी आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह की सिस्कारियां निकलने लगी |

वो मेरे लंड पर आगे पीछे करते हुए चाट रही थी और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए आहें भर रहा था | उसके बाद  उसने मेरे दोनों गोटों को अपने मुंह में ले कर आम के जैसे चूसने लगी तो मैं मुट्ठ मारने लगा | फिर वो मेरे लंड के सुपाड़े को अपने मुंह में डाल कर चूसने लगी तो मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए उसके दोनों निप्पलस को मसलने लगा | फिर वो मेरे लंड को मुंह के अन्दर पूरा घुसेड कर चूसने लगी तो मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए उसके मुंह की चुदाई करने लगा | फिर मैंने उसे घोड़ी बना दिया और उसके पीछे से कमर पकड़ कर अपना लंड चूत में डाल कर चोदने लगा तो वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए सिस्कारियां लेने लगी | फिर मैंने अपनी चुदाई की रफ़्तार बढ़ा दिया और जोर जोर से उसकी चूत को चोदने लगा तो वो भी आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए अपनी गांड आगे पीछे करते हुए चुदाई में साथ देने लगी | फिर मैंने उसे घुमा दिया और फिर से वो मेरे लंड को चूसने लगी तो मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मजे लेने लगा | फिर मैंने उसे लेटा दिया और उसकी चूत में अपना लंड डाल कर चोदने लगा और साथ में दोनों दूध को भी मसलने लगा तो वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए अपनी गांड उचका उचका कर चुदवा रही थी | करीब आधे घंटे की चुदाई के बाद मैंने अपना माल उसके दूध के ऊपर छोड़ दिया और लंड से लेप लगाने लगा |

तो दोस्तों ये थी मेरी कहानी | मैं आशा करता हूँ कि आप लोगो को मेरी कहानी जरुर पसंद आई होगी | आप लोगो का मेरी कहानी पढने के लिए धन्यवाद और मैं वादा करता हूँ कि आप लोगो के लिए ऐसी ही मजेदार कहानियां लिखता रहूँगा |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *