मैंने एक लड़की की ट्रेन में उड़ाया

loading...

ajnabi ki chudai हेल्लो दोस्तों कैसे हो आप लोग ? मैं आशा करता हूँ की आप लोग ठीक ही होगे | मेरा नाम अभय है | मैं इंजीनियरिंग कर रहा हूँ | मेरी उम्र 26 साल है | मेरी हाईट 6 फुट 5 इंच है | मैं रहने वाला लखनऊ का हूँ | मैं दिखने में काफी स्मार्ट हूँ इसलिए मुझसे लड़की जल्दी पट जाती है | ये कहानी में अपने दोस्तों के कहने पर लिख रहा हूँ | ये मेरी पहली कहानी है | मैं आशा करता हूँ की आप लोगो को ये कहानी पसंद आयेगी | मैं आप लोगो का ज्यादा समय न लेते हुए सीधे अपने कहानी पर आता हूँ |

दोस्तों ये कहानी कुछ दिन पहले की है | जब मैं और मेरे दोस्त घुमने के लिए जा रहे थे | हम 6 दोस्त थे | सब लोग हम ट्रेन का इंतजार कर रहे थे | ट्रेन 1 बजे की थी | हम लोग बैठे आपस में बात कर रहे थे की मुझे एक लड़की दिखाई दी | वो लड़की दिखने में बहुत सेक्सी थे | उसके बड़े बड़े बूब्स और उसकी बड़ी गांड | मैं बहुत देर से उस लड़की को ही देख रहा था | वो लड़की भी मुझे ही देख रही थी | धीरे धीरे ट्रेन के आने का टाइम हो गया | फिर कुछ देर बाद ट्रेन आ गयी और हम लोग ट्रेन में चढ़ गए | फिर हम लोग ट्रेन में बैठ कर बात कर रहे थे | तब वही लड़की मुझे ट्रेन में दिखी | तब में उसे दिखने लगा और वो भी मुझे देख रही थी | तब मैंने उससे इसरे में कहा की तुम कहाँ जा रही हो | तो उसने मुझे अपने पास आने को कहा | पर मैं नही गया | कुछ देर बात मैंने उसे देखा की वो मुझे ही देख रही थी | तब मैंने उससे फिर इसरे में बोला तुम कहा जा रही हो | तब उसने मुझसे इसरे में कहा मुझे नहीं समझ आ रहा है तुम क्या कह रहे हो | फिर वो वहां से उठ कर मेरे तरफ आकर गेट पर चली गयी | मैं भी अपनी सीट से उठ कर उसके पास गया | तो वो मुझसे बोली आप क्या बोल रहे थे |

तब मैं उससे बोला आप कहाँ की रहने वाली हो | उसने बताया मैं लखनऊ की रहने वाली हूँ आप | तो मैं भी बताया में भी लखनऊ का ही रहने वाला हूँ | मैंने उससे उसका नाम पूछा | तो उसने अपना नाम नीलम बताया | उसके बाद मैंने उसे कहा तुम कहाँ जा रही हो तब उसने मुझे बताया की हम 5 लोग हैं और घुमने जा रहें है | तो मैंने भी बताया की हम 6 दोस्त है | हम लोग भी घुमने जा रहने है | उसके बात धीरे धीरे हमरी बाते होती रही | कुछ देर बाद मैंने उससे पूछा आप लोग कहाँ घुमने जा रहे हो | तब उसने बताया की हम लोग आगरा जा रहे हैं | फिर मैंने भी उसको बताया की हम लोग भी आगरा जा रहे हैं | फिर हम बाते करते रहे | कुछ देर बाद एक स्टॉप आया और मैं उतर कर अपने लिए और उसके लिए खाने को लाया | और हम बैठ कर खाने लगे तभी उसकी एक सेहली ने उसे फ़ोन करके बुला लिया | तब वो मुझे बोली रुको अभी आती हूँ | ये कह कर वो चली गयी | मैं बैठा उसका इंतजार करता रहा | फिर वो 10 मिनट बाद आई और हमने साथ में पुड़ी और सब्जी खायी | फिर हम लोग बैठ कर बात करने लगे | कुछ देर बात एक और स्टॉप आया उस स्टॉप पर सब लोग उतर गए | उस डिब्बे में और मेरे दोस्त थे | उसी डिब्बे में नीलम की सेहली भी थी | पर वो आगे बैठी थी | हम ऐसे ही बाते करते रहे |

कुछ देर बाद मैं उसकी जांघों पर अपना हाथ रख कर सहलाने लगा | तब उसने बिना कुछ कहे मेरा हाथ हटा कर हँसने लगी | फिर में उसके बारे में बात करते हुए दुबारा उसकी जांघों पर हाथ रख कर सहलने लगा | वो हँसती हुई मेरे तरह देख कर वो फिर से मेरा हाथ हटा दिया | तब मैं समझ गया की ये बाहर है इसलिए डर रही है | फिर मैं उसका हाथ पकड कर उसको ट्रेन की टॉयलेट में लेकर चला गया | वो मेरे साथ टॉयलेट में चली गयी | मैं वहां पर उसकी जांघों को सहलाते हुए | उसकी होठो पर अपने होठ रख कर किस करने लगा | वो भी मेरा साथ देते हुए | मुझे किस करने लगी | मैं उसके बूब्स को कपडे के ऊपर से दबने लगा | मैं उसको किस भी कर रहा था | मैं उसको किस करते करते उसकी चूत को कपडे के ऊपर से सहलाने लगा | जिससे उसके मुंह से उह्ह्ह उफ्फ्फ्फ़ उह्ह्ह्ह उफ्फ्फ्फ़ आःह्ह उह्ह्ह्ह ऊआआआआ उफ्फ्फ्फ़ अह्ह्ह्ह उफ्फ्फ्फ़ अह्ह्ह्हह हूऊईइ ह्ह्ह अह्ह्ह उफ्फ्फ्फ़ अह्ह्ह उह्ह्ह उफ्फ्फ अह्ह्ह उह्ह्ह उफ्फ्फ अहह उह्ह्ह आह्ह्ह अहह अह्ह्ह्हह सिसिकियाँ लेने लगी | मैं उसके बूब्स को दबाते हुए उसकी चूत को भी सेहला रहा था | कुछ देर तक में इसी तरह से उसके बूब्स को दबता रहा | फिर मैं उसके सरे कपडे उतर दिए | वो मेरे सामने ब्रा और पेंटी में थी | इस तरह से उसको देख कर मुझसे रहा नहीं गया | मैं उसके बूब्स को मुंह में रख कर जोर जोर से चूसने लगा जिससे उसके मुंह से हलकी हलकी आवाज में आःह्ह उह्ह्ह्ह ऊआआआआ उफ्फ्फ्फ़ अह्ह्ह्ह उफ्फ्फ्फ़ अह्ह्ह्हह हूऊईइ ह्ह्ह अह्ह्ह उफ्फ्फ्फ़ अह्ह्ह उह्ह्ह उफ्फ्फ अह्ह्ह उह्ह्ह उफ्फ्फ अहह उह्ह्ह आह्ह्ह अहह अह्ह्ह्हह करते हुए | अपनी चूत को सहलाने लगी | उसके बाद मैं उसकी एक तांग को उठा कर उसकी चूत को चाटने लगा | वो अपने बूब्स को दबते हुए अपने मुंह से धीमी धीमी आवाज में उह्ह्ह उफ्फ्फ अह्ह्ह्ह उफ्फ्फ हाह आःह्ह उह्ह्ह्ह ऊआआआआ उफ्फ्फ्फ़ अह्ह्ह्ह उफ्फ्फ्फ़ अह्ह्ह्हह हूऊईइ ह्ह्ह अह्ह्ह उफ्फ्फ्फ़ अह्ह्ह उह्ह्ह उफ्फ्फ अह्ह्ह उह्ह्ह उफ्फ्फ अहह उह्ह्ह आह्ह्ह अहह अह्ह्ह्हह की सिसिकियाँ लेने लगी | मैं उसकी चूत में अपनी ऊँगली घुसा कर उसकी चूत को चाट रहा था | वो अपने बूब्स को सहलाते हुए अपनी मुंह में अपनी ऊँगली डाल कर धीमी धीमी आवाज में उह्ह्हू ऊफ्फ्फ ऊह्ह्ह्ह उफ्फ्फ्फ़ आह्ह्ह्ह उह्ह्ह उआआह उफ्फ्फ्फ़ अह्ह्ह आःह्ह उह्ह्ह्ह ऊआआआआ उफ्फ्फ्फ़ अह्ह्ह्ह उफ्फ्फ्फ़ अह्ह्ह्हह हूऊईइ ह्ह्ह अह्ह्ह उफ्फ्फ्फ़ अह्ह्ह उह्ह्ह उफ्फ्फ अह्ह्ह उह्ह्ह उफ्फ्फ अहह उह्ह्ह आह्ह्ह की सिसिकियाँ ले रही थी | कुछ देर बाद मैंने भी अपने सरे कपडे उतर दिए और अपना लंड उसके मुंह में डाल कर चुसाने लगा | वो मेरे लंड को अपने मुंह में डाल कर अन्दर बाहर करते हुए चूसने लगी | मैं अपने लंड को उसके मुंह में अन्दर बाहर करते हुए चूसा रहा था | वो मेरे लंड को लोलीपोप की तरह से चूस रही थी | कुछ देर तक वो मेरा लंड चूसती रही फिर मैंने उसके मुंह से अपने लंड को निकाल कर | मैं उसकी एक तांग को उठा कर उसकी चूत के मुंह पर अपना लंड रख धीरे धीरे उसकी चूत में घुसाने लगा | कुछ देर में मेरा लंड उसकी चूत में आधा घुस गया जिससे उसके मुंह से धीमी धमी आवाज में उह्ह्ह्हु उफ्फ्फ उह्ह्ह्ह उफ्फ्फ्फ़ उह्ह्ह्ह आअह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह ऊफ्फ्फ अह्ह्ह्ह हूऊउह्ह अफ्फ्फ्फ़ उह्ह्ह्ह आःह्ह उह्ह्ह्ह ऊआआआआ उफ्फ्फ्फ़ अह्ह्ह्ह उफ्फ्फ्फ़ अह्ह्ह्हह हूऊईइ ह्ह्ह अह्ह्ह उफ्फ्फ्फ़ अह्ह्ह उह्ह्ह उफ्फ्फ अह्ह्ह उह्ह्ह उफ्फ्फ अहह उह्ह्ह आह्ह्ह की सिसिकियाँ लेते हुए चुदने लगी | मैं उसकी चूत में धीरे धीरे अपना लंड घुसा रहा था | कुछ देर में मेरा पूरा लंड उसकी चूत में घुस गया | उसके मुंह से हलकी हलकी आवाज में उह्ह्ह्ह उफ्फ्फ्फ़ अह्ह्ह्ह आःह्ह उह्ह्ह्ह ऊआआआआ उफ्फ्फ्फ़ अह्ह्ह्ह उफ्फ्फ्फ़ अह्ह्ह्हह हूऊईइ ह्ह्ह अह्ह्ह उफ्फ्फ्फ़ अह्ह्ह उह्ह्ह उफ्फ्फ अह्ह्ह उह्ह्ह उफ्फ्फ अहह उह्ह्ह आह्ह्ह अहह अह्ह्ह्हह करते हुए चुद रही थी | मैं उसकी चूत में धीरे धीरे धक्को की स्पीड तेज कर दी और मैं उसकी चूत में जोरदर धक्को के साथ उसकी चूत को चोदने लगा | वो अपने मुंह में अपनी ऊँगली डाले हुए उह्ह्ह्हू अह्ह्ह्ह उह्ह्ह अह्ह्ह उफ्फ्फ्फ़ आःह्ह उह्ह्ह्ह ऊआआआआ उफ्फ्फ्फ़ अह्ह्ह्ह उफ्फ्फ्फ़ अह्ह्ह्हह हूऊईइ ह्ह्ह अह्ह्ह उफ्फ्फ्फ़ अह्ह्ह उह्ह्ह उफ्फ्फ अह्ह्ह उह्ह्ह उफ्फ्फ अहह उह्ह्ह आह्ह्ह अहह अह्ह्ह्हह इस तरह की सिसिकियाँ ले रही थी कुछ देर तक मैं उसको ऐसे ही चोदता रहा | फिर उसकी चूत से अपना लंड निकाल कर उसके मुंह में चुसाने लगा | वो मेरे लंड को अपने मुंह में रख कर चूसने लगी | मैं उसके मुह में अपने लंड को अन्दर बाहर करते हुए | मैं उसको अपना लंड चूसा रहा था | फिर उसके मुंह से अपना लंड निकाल कर | मैंने फिर से उसकी चूत में डाल दिया और धीरे धीरे धको की स्पीड तेज करके चोदने लगा | वो अपनी चूत को हिलाते हुए चुदने लगी साथ में वो अपने मुंह से उह्ह्ह उफफ्फ्फ्फ़ ऊह्ह्ह्ह आह्ह्ह्ह उफ्फ्फ्फ़ अह्ह्ह्ह उफ्फ्फ्फ़ उह्ह्हह्ह अह्ह्ह्ह आःह्ह उह्ह्ह्ह ऊआआआआ उफ्फ्फ्फ़ अह्ह्ह्ह उफ्फ्फ्फ़ अह्ह्ह्हह हूऊईइ ह्ह्ह अह्ह्ह उफ्फ्फ्फ़ अह्ह्ह उह्ह्ह उफ्फ्फ अह्ह्ह उह्ह्ह उफ्फ्फ अहह उह्ह्ह आह्ह्ह अहह अह्ह्ह्हह करती हुई चुद रही थी | मैं उसको जोरदर धक्को के साथ चोद ही रहा था की मेरे दोस्त का फ़ोन आया और उसने मुझसे बोला की भाई तो कहाँ है हम आगरा पहुच गए | मैं अभी झडा नहीं था | न ही नीलम अभी पूरी तरह से चुदी थी | पर हमे बाहर जाना पड़ा | तब हम कपडे पहने और पहले नीलम बाहर निकली उसके बाद मैं बाहर निकल आया और हमने अपना अपना मुंह धुले फिर बाते करते हुए | मैं अपने दोस्तों के पास चला गया वो अपने सहलियों के पास चली गयी |

loading...

आगे की कहनी भाग 2 में |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *