भाभी की मचलती चूत को शांत किया

loading...

esi bhabhi sex kahani हेल्लो दोस्तों मेरा नाम मोहन है और मेरी उम्र 22 साल है | मैं रहने वाला गुजरात के पास के एक गाँव से हूँ | मैं अभी पढाई करता हूँ | मैं दिखने में काफी हैंडसम हूँ और मेरी बॉडी भी ठीक ठाक है | मेरी हाईट 6 फुट 3 इंच है | दोस्तों मैं जो आज कहानी आप लोगो के सामने पेश करने जा रहा हूँ ये मेरे जीवन की सच्ची कहानी है | मैं आप लोगो से उम्मीद करता हूँ की आप लोगो को मेरी कहानी पसंद आएगी और इस कहानी को पढ़ने में आप लोगो को बहुत मज़ा भी आयेगा | मैं आप लोगो का ज्यादा टाइम न बर्बाद करते हुए सीधे अपनी कहानी पर आता हूँ |
दोस्तों मेरे पापा की बहन जोकि मेरी बुआजी हुई | मेरी बुआजी का एक लड़का है जिसकी शादी हो चुकी हैं और मेरी बुआजी का लकड़ा शहर में जॉब करता है | मेरी बुआ के लड़के का नाम रवि है और वो दिखने में काफी स्मार्ट है | दोस्तों मैं आप सभी लोगो को रवि की पत्नी के बारे में बता देता हूँ | रवि की पत्नी जोकि मेरी भाभी हुई | मेरी भाभी का नाम वर्खा है | भाभी दिखने में बहुत गोरी है | वो दिखने में बहुत मस्त माल लगती है | उनके बड़े बड़े बूब्स जोकि 38 इंच के हैं और उनकी बड़ी चौड़ी गांड जिसको वो मटकाती हुई चलती है | दोस्तों मेरी भाभी बहुत सेक्सी हैं और वो इतनी सेक्सी है जिसकी वजह से किसी की भी नियत ख़राब हो जाये | जब मैंने भाभी को पहली बार शादी में देखा था तो मेरे अन्दर उनकी चुदाई की इच्छा आ गयी थी | मैं यहीं सोचता था की कास ये मेरी बीबी होती और मैं इसको रोज ही नंगा करके चोदता | मैं उनको बहुत पसंद करता था जिसकी वजह से मैं अक्सर अपनी बुआ के घर जाता और उनसे बात करने की कोशिश करता था | वो मुझे क्या किसी को भी भाव नही देती थी और मैं जब ही उनसे बात करने की कोशिश करता तो वो मुझसे दूर चली जाती | मैं जितने उनके करीब जाने की कोशिश करता वो मुझसे उतनी ही दूर चली जाती थी |

दोस्तों उस दिन मैंने सोच लिया था की एक दिन भाभी को मैं अपनी टांगो के नीचे जरुर लाऊंगा | मैं अब भाभी को देखकर मज़े लेता और कभी कभी उनसे मस्ती कर देता था | मैं जब उनसे मस्ती करता तो वो मुझसे दूर हो जाती | मैं उनके साथ ऐसे ही किया करता था जिससे वो भी मुझसे मजाक करने लगी | जब वो मुझसे मजाक करती तो मुझे बहुत अच्छा लगता था क्यूंकि मुझे उन्हें पटना था और मैं इसलिए मुझे उनके साथ इतना तो करना ही पढता | मैं उनके घर 2 दिन रुका और उनके साथ ऐसे ही करता रहा जिससे वो मुझे देखकर स्माइल कर देती थी | जब भाभी मुझे देखकर स्माइल करती तो मैं उनको देखकर आंख मार देता | मैं जब उनकी तरफ आंख मारता तो वो अपनी नज़रो को नीचे झुका लेती थी | फिर मैं अपने घर चला गया और मुझे फिर टाइम नही मिला की मैं उनके घर जा पता | मैं भी उनकी यादो में खो गया था और हर पल उनके ही सपने देखता रहता था | दोस्तों कुछ दिन के बाद की बात है जब मेरे मामा की लड़की की शादी थी और वहां हम लोगो को जाना था | मेरा मन तो नही था जाने का पर मेरे मामा की लड़की की शादी थी अगर सब लोग नही जाते तो वो नारज हो जाते इसलिए हम पुरे परिवार के साथ मामा के घर चले गए | मैं वहां इधर उधर देख ही रहा था की मुझे भाभी दिखी | दोस्तों मैं उनको वहां देख कर बहुत खुश हुआ और वो उस दिन साड़ी में बहुत मस्त माल लग रही थी | मैं उनको ऐसे देख कर कुछ देर तक दूर से ताड़ता रहा और फिर उनको पीछे से उनकी आँखों को बंद कर लिया | मैंने जब उनकी आँखों को पीछे से बंद कर लिया तो वो मेरे हाथ को खोलने लगी पर मैंने उनकी आँखों को कस के पकड रक्खा था जिससे वो नही खोल सकी | फिर मैंने उनकी आँखों को खोल दिया और वो मुझे देखकर हँसती हुई बोली की मैं जानती थी की कोई जानने वाला ही होगा पर मुझे ये नही पता था की तुम होगे |
फिर मैं और भाभी आपस में बात करने लगे | मैं जब उनसे बात कर रहा था तो वो मुझसे ऐसे बाते कर रही थी की मेरा मन हुआ की उनको अपनी बाँहों में भर लूँ और जी भर के प्यार करूँ | फिर मैं शादी के काम काज देखने लगा | मैं जब काम कर रहा था तो वो मुझे ही देख रही थी और घुर घुर कर देख रही थी | मैं उनको ऐसे देखते देखकर उनके पास गया और पूछा भाभी आप इतनी देर से क्या देख रही हो तो वो बोली तुम्हे ही देख रही हूँ | दोस्तों उस टाइम भाभी मुझसे जैसे बाते कर रही थी तो मुझे लग रहा था की वो मुझसे चुदना चाहती हैं | फिर शादी हो गयी और सब लोग अपने अपने घर जाने लगे तो मुझे भी अपने घर आना था तो मैंने अपना नम्बर भाभी को दिया और उनसे फ़ोन करने को कहा | मैने जब उनसे फ़ोन करने को कहा तो वो हाँ बोली और फिर चली गयी | उसके कुछ दिन बाद भाभी ने फ़ोन किया और जब भाभी ने फ़ोन किया तो मेरी बाते उसी दिन से उनसे होने लगी | मेरी और उनकी बाते बहुत ज्यादा होने लगी थी और मैं उनसे अब सेक्सी बाते भी करता था | मैं कभी कभी उनके घर जाता तो मौका पाने पर उनको किस करता और उनके बड़े और चिकने बूब्स को दबा देता था | मैं उनके साथ इससे भी ज्यादा करना चाहता था इसलिए मौके का इंतजार कर रहा था |

एक दिन की बात है जब मैं उनके घर ही था और मेरी बुआ जी काम की वजह से घर के बाहर गयी थी | जब वो घर से बाहर गयी थी तो मैं भाभी के साथ उनके बेडरूम में चला गया | मैं जब उनके साथ उनके बेडरूम में था तो भाभी को कस के अपनी बाँहों में भर लिया जिससे उनके बड़े बड़े बूब्स बीच में दब गए | मैं उनको अपनी बाँहों में भर के चूमने लगा और वो मुझे कस के पकड लिया | मैं उनको कुछ देर तक चूमने के बाद उनकी गुलाबी होठो पर अपनी होठो को रख दिया | मैं उनकी होठो पर अपनी होठो को रख कर चूमने लगा और वो मेरी होठो को मुंह में रख कर जोर जोर से चूमने लगी | मैं उनकी होठो को चूमने के साथ उनके बूब्स को कपडे के ऊपर से दबा रहा था | फिर मैंने भाभी के कपडे निकाल दिए जिससे वो मेरे सामने ब्रा और पैंटी में आ गयी | दोस्तों वो ब्रा और पैंटी में बहुत सेक्सी लग रही थी | मैं उनको ऐसे देख कर उन पर टूट पड़ा और उनकी ब्रा को खीच कर तोड़ दिया | मैं उनकी ब्रा को तोड़ने के बाद उनके एक दूध को मुंह में रख कर चूसने लगा और दुसरे को हाथ में पकड कर मसलने लगा |

मैं उनके दूध को मुंह में रख कर चूस रहा था और वो मेरे सर को अपने बूब्स पर कस के पकड कर दबा रही थी | मैं उनके बूब्स को मुंह में रख कर जोर जोर से ऐसे ही कुछ देर तक चूसता रहा | फिर मैंने उनकी पैंटी को निकाल दिया और उनकी चूत में मुंह को घुसा कर चाटने लगा जिससे उनके मुंह से निकलने वाली तेज सांसे सिसकियाँ में बदल गयी | मैं उनकी वो सिसकियाँ सुनकर उनकी चूत में ऊँगली भी घुसा दी जिससे उनके मुंह से तेज आवाज में अह अह अह हाँ हाँ उई….. की आवाजे निकल गयी | मैं उनकी चूत में ऐसे ही कुछ देर तक अन्दर बाहर करने के बाद मैं अपने कपडे निकाल दिए और अपने लंड को उनके हाथ में पकड दिया वो मेरे लंड को मुंह में रख कर जोर जोर से अन्दर बाहर करती हुई चूसने लगी | मैं उनके सर को पकड कर जोर जोर से अन्दर बाहर करते हुए चूसा रहा था | मैं अपने लंड को ऐसे ही 5 मिनट तक चुसाने के बाद उन्हें बेड पर लेटा कर उनकी चूत में अपने लंड को घुसा दिया | मेरा लंड जैसे ही उनकी चूत में घुसा तो उनके मुंह से दर्द भरी सिसकियाँ निकल गयी | मैं उनकी चूत में धीरे धीरे अन्दर बाहर करते हुए उनको चोद रहा था और वो मेरे हर धक्के का मज़ा लेती हुई चुद रही थी | मै उनकी कमर को पकड कर उनकी चूत में जोरदार धक्को के साथ चोद रहा था | वो हाँ हाँ हाँ… आ आ आ आ…. उई उई हाँ हाँ उई उई माँ माँ…. की सेक्सी आवाजे करती हुई मेरे धक्को का मज़ा ले रही थी | मैं उनकी चूत में ऐसे ही जोरदार धक्को के साथ चोद रहा था जिससे उनकी चूत से कुछ ही देर में पानी निकल गया और वो झड़ गयी | मैं अभी भी नही झड़ा था और चुदाई करने के लिए तैयर था | तब मैं उनकी चूत में दुबरा अपने लंड को घुसा कर जोरदार धक्को के साथ कुछ देर चोदने के बाद मैं भी झड़ गया | मैं जब झड़ गया तो वो मेरे लंड को मुंह में रख कर चूस चूस कर साफ कर दिया | फिर मैंने अपने कपडे पहन लिए और वो अपने कपडे पहन कर अपने बाल और सब सही किया | फिर मैं और भाभी दोनों ही बाहर बैठ कर बात करने लगे |
दोस्तों ये थी मेरी कहानी | मैं उम्मीद करता हूँ की आप लोगो को मेरी कहानी पसंद आई होगी | धन्यवाद्………

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *