कोचिंग क्लास की सबसे हॉट लड़की को पटा कर चोदा

loading...

हेल्लो दोस्तों, मेरा नाम अशोक शर्मा है, और मै मेरठ का रहने वाला हूँ। मेरी उम्र लगभग 19 साल होगी। और मेरा कद 5.9 इंच होगी। आज मै आप सभी को अपने जिन्दगी की सबसे हसीन और से स्मार्ट लड़की की चुदाई की कहानी सुनाने जा रहा हूँ। मै कामुक स्टोरी स्टोरी डॉट कॉम का नियमित पाठक रहा हूँ। मै हमेशा इस पर कहानिया पढ़ा करता हूँ, जब मैंने भी अपने जिन्दगी की सबसे जबरदस्त चुदाई कोचिंग की सबसे हॉट लड़की को चोद कर किया तो मैंने भी सोचा क्यों न मै भी अपनी कहानी भेज दूँ। मैंने कभी सोचा नही था कि कोई मेरी कहानी भी पढ़ेगा। अपनी कहनी बताने से पहले मै कुछ अपने बारे में बता दूँ। मै देखने में किसी हीरो की तरह बिलकुल नही हूँ, मै सिंपल और देखने में बहुत ही सीधा लड़का हूँ। जो लोग मुझे पहली बार देखते है वो तो मुझसे कहते है तुम कितने सीधे हो लेकिन कुछ दिन मेरे साथ रहने के बाद वो भी जान जाते है कि हर भोले सकल वाला सीधा नही होता है। मैंने अपनी जिन्दगी में बस कुछ ही लडकियो से दोस्ती की है क्योकि मै उनको बचपन से जानता था। मै जल्दी किसी से भी दोस्ती नही करता हूँ, अगर कोई दोस्ती करना चाहे तो खुद भी तो आ सकता है। मेरे पापा कहते है ज्यादा दोस्त भी नही बनाने चाहिए क्योकि उनके चक्कर में तुम कभी पढ़ नही पाओगे। मैंने अपनी जिन्दगी में केवल एक ही लड़की को चोदा है उसका नाम आरती था, जो मेरे घर के ही बगल में रहती थी। मै उससे सच्चा प्यार करता था लेकिन उस कमीनी को प्यार नही केवल नए नए लंड किसी तरह से मिला करे बस। वो प्यार में विश्वास नही करती थी, मैने आरती को बहुत बार चोदा है लेकिन मुझे उसे चोदने से ज्यादा उसके रसीले होठो को चूसने में मजा आता था। मै उसके होठो को इतनी बेरहमी से चुस्त था की वो तो पागल होने लगती थी। मैंने उसकी चूत को चोद चोद कर पूरा फैला दिया था। जब आरती का मन मुझसे चुदवा कर भर गया तो उसने बिना कुछ सोचे समझे मुझसे ब्रेकअप कर लिया। मुझे गुस्सा तो बहुत आया था लेकिन मै कर भी क्या सकता था। मैंने भी सोचा चलो कोई नही दूसरी मिल जायेगी बस प्यार में होता क्या है किसी तरह से चुदाई कर लो तो प्यार पूरा हो जाता है।

girl friend ki chudai

एक साल साल पहले की बात है, जब मै अपनी इंटर की पढाई पूरी करके आगे की पढाई पूरी करने के लिए दिल्ली के एक यूनिवर्सिटी में एडमिसन लिया था। मै पढने में काफी तेज था, लेकिन मै जल्दी किसी से बोलता नही था। मै दिल्ली में किराये पर रूम लेकर रह रहा था। सुबह मेरी पहले कोचिंग रहती थी और उसके बाद कॉलेज में क्लास रहता था। जब मै पहले दिन कोचिंग में गया तो मै कुछ जल्दी ही पहुँच गया कोई भी लड़के और न ही लड़कियां नही आये थे। सर ने मुझसे बताया सही टाइम पर आया करो। मैंने उनसे कहा ठीक है सर आज पहला दिन था इसलिए जल्दी आ गया. कुछ देर बाद एक लड़की आई जब मैंने उसको देखा तो देखता ही रह गया, वो किसी परी की तरह लग रही थी, उसकी आंखे बड़ी बड़ी और गोल गोल और होठ बहुत ही पतले जैसे किसी ने अपने हाथो से इतना पतला बनाया है। और गोर और लाल लाल गाल थे उसके। मै तो पहली बार में ही उसका दीवाना हो गया था। मेरा मन पहली बार किसी से दोस्ती करने को कह रहा था। लेंकिन मेरी हिम्मत नही हो रही थी की मै उससे बोल दूँ। बाद में पता चला की उसका नाम प्रिया है। क्लास में मै केवल सर के सवाल के जवाब देने के लिए बोलता था और सरे लड़के मुझे ही देखते थे ये केवल सवालो के ही जवाब देता है और फालतू किसी कुछ भी नही बोलता है। सर को मुझ पर फक्र हो रहा था। वो हमेसा मेरी ही बड़ाई करते थे। हर कोई मुझसे दोस्ती करना चाहता था लेकिन मै तो केवल प्रिया से ही दोस्ती करना चाहता था। धीरे धीरे समय बीत रहा था, और कुछ ही दिन में एग्जाम आ गया। एक्स्जम खत्म होने के बाद मै फ्री हो गया था, एक दिन खाली समय में मै टाइम पास के लिए facebook चला रहा था। मुझे चलते समय प्रिया का फोटो दिखा दिखा मैंने सोचा की मै इसको फ्रेंड request भेजू की न भेजूं। आप ये कहानी नॉन वेज डॉट कॉम पर पढ़ रहे है। कुछ देर बाद मैंने भेज दिया, वो भी facebook ही चला रही थी। उसने तुरंत मेरा request accept कर लिया। कुछ देर बाद उसने मैसेज भेजा “do you know me very well”. तो मैंने reply किया “yes i know u”. धीरे धीरे हमारी बाते शुरू हो गयी। मै जब भी facebook चलता तो केवल प्रिया से ही बाते करता। धीरे धीरे हम पास आने लगे थे, कुछ बिता फिर से कॉलेज चालू हो गया और साथ में कोचिंग भी। अब हम रोज मिलने लगे थे, और जब हम कोचिंग से छूटते तो एक साथ में ही हम जाते थे, रास्ते में बात करते हुए। सायद वो भी मुझे पसंद करने लगी थी। एक उसने ही मुझसे पूछा तुम्हारी कोई girlfrend तो होगी जरुर क्योकि तुम पढने में इतने तेज और साथ में स्मार्ट भी। मैंने अपने उससे कुछ भी झूठ नही बोला सारा सच उसको बता दिया। उसने भी अपने बारे में बताया, उसका भी boyfrend नही था। मुझे लगा की वो मुझे इशारे कर रही है की मै उसको प्रपोस करूँ। धीरे धीरे समय बीत रहा था, हम इतने पास आ गये थे कि हर बात एक दुसरे से बताने लगे थे। एक बार तो हद ही हो गई, वो sunny leon को लाइक करती थी, तो मैंने उससे कहा – तुम sunny leon को लाइक करती हो, “she is too dirty”. तो उसने कहा हाँ वो तो है लेकिन उसका फिगर बहुत मस्त है।

गर्लफ्रेंड सेक्स स्टोरी

loading...

एक दिन मैंने बातो ही बातो में उसको प्रपोस कर दिया। और उसने हाँ भी कर दिया। हम दोनों रात को बहुत देर तक गन्दी गन्दी बातें करते जिससे मेरा मूड बन जाये तो मै मुठ मरता और प्रिया का मूड बन जाये तो वो अपने चूत में उंगली करके कम चलाये। एक दिन मैंने उससे किस करते हुए कह ही दिया यार मै तुमको चोदना चाहता हूँ, वो भी मुझसे चुदना चाहती थी। उसने तुरंत चुदने के लिए हाँ कर दिया।

अगले दिन हमने कोचिंग क्लास बंक कर दिया और मै उसको लेकर अपने रूम पर आ गया। और मैंने जल्दी से प्रिया को लेकर बेड पर लेट गया। तो उसने कहा यहाँ हम लेटने नही आये है, मुझे टाइम पर कॉलेज जाना है। जो करना है जल्दी करो। मैंने कहा – हाँ क्यों नही।

मैंने जल्दी से अपने कपडे निकाल दिये और प्रिया के हाथो को पकड कर मैने उसके हाथो को चूमने लगा। मै उसके हाथो को चुमते हुए धीरे धीरे उसके हाथो के उपर की ओर बढ़ने लगा। कुछ देर में मै उसके कंधे तक पहुँच गया। जब मै उसके हाथो को चुमते हुए आगे बढ़ रहा था तो प्रिया मचलने लगी और वो अपने शरीर को ऐंठने लगे। मैंने धीरे धिरे उसके गले को पीते हुए उसके होठो तक पहुँच गया। जैसे ही मै उसके होठो के पास पहुंचा प्रिया ने जोश में मेरे होठो को मुह में रख लिया और मेरे होठो को पीने लगी। मैंने भी बड़े जोश में उसको अपने बाहों में जकड़ लिया और उसके पतले और काफी रसीले होठो को चूसते हुए पीने लगा। वो मेरे होठो को चूस चूस कार मुझे मदहोश कर रही थी। मै धीरे धीरे कामोत्तेजित होने लगा, और प्रिया के होठो को पीते हुए मै उसके मम्मो को भी मसलने लगा था। और प्रिया धीरे धीरे सिसकते हुए मेरे होठो को लगातार चूस रही थी।

लगभग 40 मिनट तक हम एक दुसरे के होठो को पीते रहे। और फिर प्रिया ने मुझे फ़िल्मी इस्टाइल में बेड पर धकेल दिया और अपने एक एक कपडे निकाल निकाल कर मेरे मुह पर फेकने लगी। आप ये कहानी नॉन वेज डॉट कॉम पर पढ़ रहे है। जब उसने अपना टॉप निकाला तो उसका गोरा बदन दिखने लगा। उसका पूरा शरीर चमक रहा था। और फिर उसने अपने जीन्स भी निकाल दी, अब वो केवल ब्रा और पैंटी में बची थी। मेरी नजर उसके उपर से हट ही नही रही थी, लेकिन जब उसने मेरे हाथो को पकड कर अपने चूचियो पर रख दिया, तो मेरा लंड और भी टाइट और खड़ा हो गया। मैंने उसके ब्रा में अपने हाथो को डाल दिया और उसके मुलायम चूचियो को दबाने लगा। कुछ देर बाद मैंने उसके ब्रा को निकाल दिया और उसके मस्त और कमसिन चूचियो को मसलते हुए पीने लगा। और मै उसके मम्मो को पीने के साथ साथ दुसरे हाथ से उसकी मुलायम चूचियो को दबाने का भी मज़ा ले रहा था। मुझे तो बहुत मज़ा आ रहा था और प्रिय को भी बहुत मज़ा आ रहा था मेरे उसकी चूचियो को दबा दबा कर पिने से। वो अपने चूचियो को बड़ी मस्ती से मुझे पिला रही थी। मै तो बहुत ही जोश में उसके मम्मो को पी रहा था, कभी कभी तो मेरे दन्त उसकी चूची में चुभ जाते और वो चीखने लगती थी।

कुछ देर बाद जब मैंने उसकी चूचियो को मन भर कर पिया लिया तो मैंने उसके मम्मो को चूसने बंद कर दिया और उसकी पेट को सहलाते हुए मै उसकी चिकनी कमर को चूमने लगा और धीरे धीरे मै उसके चूत के पास पहुँच गया। जैसे ही मैंने उसके चूत पर अपना हाथ फेरा, वो मचलने लगी और अपने हाथो से ही अपने मम्मो को मसलने लगी, और अहह अहह अहह उफ़ उफ़ … करके सिसकने लगी। मैने उसकी चूत को कुछ देर तक सहलाया जिससे प्रिया बहुत ही ज्यादा कामातुर हो गयी। कुछ देर के बाद मैंने उसके पैंटी को निकाल दिया और उसके चूत को अपने हाथ की उंगलियो से बार बार फैलाते हुए सहला रहा था जिससे प्रिया तो पागल हुई जा रही थी।

कुछ देर बाद मैंने अपनी उंगली को उसकी चूत के अंदर डालने लगा। मेरी उंगली उसकी चूत के अंदर तक जा रही थी, कुछ ही देर में मैंने अपनी उंगलियो को जोड़ कर उसके चूत में डालने लगा। आप ये कहानी नॉन वेज डॉट कॉम पर पढ़ रहे है। मेरी उंगली बार बार उसकी चूत के छेद को फैला रही थी जिससे प्रिया …आह अहह अह्ह्ह उफ्फ् उफ्फ्फ ओह ओहो हो हह ह्ह्ह सी सी सी … करके सिसकने लगी। मुझे तो बहुत मज़ा आ रहा था लेकिन प्रिया को तो ज्यादा मज़ा आ रहा था। कुछ देर बाद जब मै तेजी से अपनी उंगलियो को उसकी चूत में डालने लगा तो वो चीखने लगी और कुछ देर लगातार उसकी चूत में उंगली करने से उसकी चूत गीली हो गई। उसके चूत से छल्ल छल्ल पानी निकाल रहा था। जिससे उसको मज़ा आ रहा था।

उसकी चूत के पानी को निकालने के बाद मैंने प्रिया को अपने लंड का दर्शन करवाया। वो मेरे लंड को देख कर बहुत खुश थी लेकिन उसे क्या पता था कि इसी लौड़े से लड़कियां बहुत चीखती है। पहले तो मैंने अपने लंड को कुछ देर के लिए प्रिया के हाथो में दे दिया। वो कुछ देर तक मेरे लंड को सहलाती रही जिससे मेरा लंड काफी टाइट हो गया। फिर मैंने प्रिया को बेड पर लिटा दिया और और मै उसके उपर चढ़ गया। मैंने उसके चूत को पहले अपने हाथो से थोडा फैला दिया और अपने लंड को उसकी चूत की छेद में रख कर धीरे धीरे जोर लगा कर अंदर डालने लगा। मेरा मोटा लौडा धीरे धीरे उसकी चूत के अंदर जाने लगा। और वो धीमी आवाज़ में सिसकने लगी थी। कुछ देर में मेरे अंदर का जानवर जागने लगा और मै प्रिया की चुदाई पूरी जोर लगा कर करने लगा। मेरा लंड प्रिया की चूत में रगड़ के एक अलग ही तरह की तनाव उत्पन कर रहा था। जिससे प्रिया अपने शरीर को ऐंठते हुए चीखने लगी थी। कुछ ही देर मै हच्च हच्च करके उसको पेलने लगा। जैसे जैसे मै उसकी चुदाई तेजी से करने लगा था, वो भी तेज तेज से .. अह्ह्ह अहह अहह अह अह आह ..उह उह उह ऊ हु ऊऊ ऊ ह्ह्ह ह ह .. उफ़ उफ़ उफ़ .. उनहू उनहू उनहू नुहू .., सी सी सी सी सी .. माँ म मम्मी उफ़ उफ़ ओह ओह बहुत दर्द हो रहा है … अहह अहह अह मम्मी प्लीस्स्स्स प्लीस्स्स्स….. आराम से बहुत दर्द हो रहा है करके चीख रही थी। और उसकी आँखों से कुछ आंसू की बूंद भी निकल आई थी। कुछ देर लगातार चुदाई करने पर उसकी चूत गीली हो गई और और अब मेरा लौड़ा उसकी चूत को ज्यादा दर्द नही दे रहा था लेकिन पूरा अंदर तक जा रहा था। मै बड़ी तेजी से उसकी चुदाई कर रहा था, मेरी लंड और उसकी चूत के आपस में लड़ने से चट चट चट चट चट की आवज़ आ रही थी। मै इतनी तेजी से उसकी चुदाई कर रहा था की धीरे धीरे उसकी चूत फूलने लगी थी। मै लगातार 50 मिनट से बिना आउट हुए लगातार उसकी चदाई कर रहा था। कुछ देर बाद मुझे लगा अब मेरा माल निकलने वाला है, तो मैंने अपने लंड को प्रिया के बुर से बाहर निकाल लिया और प्रिया के मम्मो के बीच में रख कर उसके दोनो चूचियो को दबा कर उसकी चूचियो को चोदने लगा। मै बड़ी जोर लगा कर उसकी चूचियो के बीच मी चोद रहा था। कुछ ही देर में मेरी रफ़्तार बहुत तेज हो गई। और कुछ ही देर में मेरे लौड़े से पिचकरी की तरह पिच्च पिच्च करके मेरे शुक्राणु निकलने लगा। जिससे प्रिया के मुह और गले में मेरे लंड का माललग गया। जब मेरा माल निकाल गया तो मुझे बहुत अच्छा फील हुआ।

चुदाई के बाद हमने बहुत देर तक मजे किये। प्रिया कॉलेज भी नही गई, मैने दिन भर उसकी चुदाई की। उस दिन के बाद मै उसको हर रविवार को कोचिंग के बहने अपने घर बुला लेता जिससे मै उसकी खूब चुदाई करता। आप ये कहानी कामुक स्टोरी डॉट कॉम पर पढ़ रहे है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *